Friday, November 23, 2012

Dil Kya Chahata Hai...


मर्ज़ भी है पता और दवा भी मालूम है,
फिर भी ये दर्द पलना चाहता है।
बड़ा नादाँ है ये दिल,
ग़म की आग   चाहता है।

नादानियों के बिना जिंदगी मुकम्मल कहाँ
बड़े शिद्दत से नाकामियों की ओर  चलना चाहता है।

लोग सयाने हो गए, रिश्तो का हिसाब लगते हैं
कोई गिला नहीं दुनिया से, बस अपनापन बदलना चाहता है।
बड़ा नादाँ है ये दिल,
अपने ही ढंग में ढलना चाहता है।

Marz bhi hai pata aur dawa bhi malum hai...
Fir bhi ye dard palna chahta hai..

Bada nadan hai ye dil,
Gam ki aag main jalna chahata hai...

Nadaniyo ke bina jindagi mukkammal kaha,
Bade siddat se nakamiyo ki oor chalna chahta hai...

Log sayane ho gaye, Risto ka hisab lagate hain...
Koi gila nahi duniya se bas apnapan badlna chahta hai,

Bada nadan hai ye dil,
Apane hi dhang mein dhalna chahata hai...

(Ghazal Composed on 23 Nov 2012, by my introspective blues... )
Sent from BlackBerry® on Airtel

5 comments:

tsantosh555 said...

Wah wah wah , Bhai bahot sahi Likha hai aapne. Aaj Ke har insan ki haqeekat hai ye.

tsantosh555 said...

Wah wah wah bhai, bahot khoob aur sahi likha hai aapne. Aaj ke insan ki haqeekat hai ye.

siddarth pai said...

nice

shweta puri said...

Awesome :-))

shweta puri said...

Awesome lines :-)